breaking news

साहित्य

वसंत पंचमी एवं सरस्वती पूजा पर इंदिरापुरम में शानदार कवि सम्मेलन का आयोजन
0

वसंत पंचमी एवं सरस्वती पूजा पर इंदिरापुरम में शानदार कवि सम्मेलन का आयोजन

February 9th, 2017 | by admin
संजय कुमार गिरि, नई दिल्ली , वसंत पंचमी एवं सरस्वती पूजा के पावन पर्व पर एक शानदार कवि सम्मेलन का आयोजन कल... Read more
आधुनिक
1

आधुनिक

February 7th, 2017 | by admin
संजय वर्मा “दृष्टी ” क्या जिंदगी आधुनिक हो गई अब कोई नहीं देखता दीवार पर धुप आने का समय पूछने का किसी के पास... Read more
आवारा किस्सो मे याद रहूंगा
1

आवारा किस्सो मे याद रहूंगा

February 7th, 2017 | by admin
रंगनाथ द्विवेदी। जज कालोनी,मियाँपुर जौनपुर। एै दुनिया——————– मै अपने आवारा किस्सो मे याद रहुंगा। किसी... Read more
कितना प्यारा हैं यह शब्द प्रेम
0

कितना प्यारा हैं यह शब्द प्रेम

February 7th, 2017 | by admin
ओमकार मणि त्रिपाठी प्रेम कितना प्यारा हैं यह शब्द प्रेम जिसमे समाया हुआ हैं सुन्दर अनुभूतियाँ , श्रद्धा... Read more
सूखा
0

सूखा

January 31st, 2017 | by admin
कुमार गौरव इलाके में लगातार तीसरे साल सूखा पडा है अब तो जमींदार के पास भी ब्याज पर देने के लिए रूपये नहीं... Read more
आधुनिक
1

आधुनिक

January 29th, 2017 | by admin
संजय वर्मा ‘दृष्टि ‘ क्या जिंदगी आधुनिक हो गई अब कोई नहीं देखता दीवार पर धुप आने का समय पूछने का किसी के पास... Read more
जब जब ये तिरंगा आसमान को छूते सा लहराता है..
0

जब जब ये तिरंगा आसमान को छूते सा लहराता है..

January 26th, 2017 | by admin
साधना सिंह गोरखपुर जब जब ये तिरंगा आसमान को छूते सा लहराता है । मन पुलकित हो उठता है,आदर से सिर झुक जाता है।।... Read more
लाज अपने देश की सबको बचाना है
0

लाज अपने देश की सबको बचाना है

January 26th, 2017 | by admin
डॉ . मधु त्रिवेदी लाज अपने देश की सबको बचाना है दुश्मनों के आज मिल छक्के छुड़ाना है बार हर मिल कर मनाते प्रव... Read more
एक लेखक की दास्तान ~प्रामाणिकता की जंग
0

एक लेखक की दास्तान ~प्रामाणिकता की जंग

January 2nd, 2017 | by admin
विश्वजीत ‘सपन’ भारत देश में लेखकों की कमी है। यह बात मुझे तब पता चली, जब हूबहू मेरी ही रचना एक प्रतिष्ठित... Read more
आओ, नूतन वर्ष मना लें- हरिवंश राय बच्चन
0

आओ, नूतन वर्ष मना लें- हरिवंश राय बच्चन

January 1st, 2017 | by admin
आओ, नूतन वर्ष मना लें! गृह-विहीन बन वन-प्रयास का तप्त आँसुओं, तप्त श्वास का, एक और युग बीत रहा है, आओ इस पर हर्ष... Read more
Translate »