breaking news

ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा – गुलज़ार

August 18th, 2016 | by admin
ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा – गुलज़ार
शायरी
0

ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा
क़ाफिला साथ और सफ़र तन्हा

अपने साये से चौंक जाते हैं
उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा

रात भर बोलते हैं सन्नाटे
रात काटे कोई किधर तन्हा

दिन गुज़रता नहीं है लोगों में
रात होती नहीं बसर तन्हा

हमने दरवाज़े तक तो देखा था
फिर न जाने गए किधर तन्हा

यह भी पढ़ें …

दोस्त गहरे हैं तो फिर जख्म भी गहरे होंगे

मोहसिन नकवी के कुछ उम्दा शेर

आज मैंने अपना फिर सौदा किया – जावेद अख्तर

उज्र कुछ चाहिए सताने को

फेसबुक ………..twitter …………….गूगल प्लस

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »