breaking news

बूँद और समुद्र

September 16th, 2016 | by admin
बूँद और समुद्र
शायरी
0

इसे बनाने में , कितनी बूंदों ने छोड़ा है आसमान अपना
कभी गिनते हो क्या जब समुन्दर की बात करते हो

वंदना बाजपेयी

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »