breaking news

कवितायें

आधुनिक
1

आधुनिक

February 7th, 2017 | by admin
संजय वर्मा “दृष्टी ” क्या जिंदगी आधुनिक हो गई अब कोई नहीं देखता दीवार पर धुप आने का समय...
आवारा किस्सो मे याद रहूंगा
1

आवारा किस्सो मे याद रहूंगा

February 7th, 2017 | by admin
रंगनाथ द्विवेदी। जज कालोनी,मियाँपुर जौनपुर। एै दुनिया——————– मै अपने आवारा किस्सो मे...
कितना प्यारा हैं यह शब्द प्रेम
0

कितना प्यारा हैं यह शब्द प्रेम

February 7th, 2017 | by admin
ओमकार मणि त्रिपाठी प्रेम कितना प्यारा हैं यह शब्द प्रेम जिसमे समाया हुआ हैं सुन्दर...
आधुनिक
1

आधुनिक

January 29th, 2017 | by admin
संजय वर्मा ‘दृष्टि ‘ क्या जिंदगी आधुनिक हो गई अब कोई नहीं देखता दीवार पर धुप आने का समय...
जब जब ये तिरंगा आसमान को छूते सा लहराता है..
0

जब जब ये तिरंगा आसमान को छूते सा लहराता है..

January 26th, 2017 | by admin
साधना सिंह गोरखपुर जब जब ये तिरंगा आसमान को छूते सा लहराता है । मन पुलकित हो उठता है,आदर...
लाज अपने देश की सबको बचाना है
0

लाज अपने देश की सबको बचाना है

January 26th, 2017 | by admin
डॉ . मधु त्रिवेदी लाज अपने देश की सबको बचाना है दुश्मनों के आज मिल छक्के छुड़ाना है बार...
आओ, नूतन वर्ष मना लें- हरिवंश राय बच्चन
0

आओ, नूतन वर्ष मना लें- हरिवंश राय बच्चन

January 1st, 2017 | by admin
आओ, नूतन वर्ष मना लें! गृह-विहीन बन वन-प्रयास का तप्त आँसुओं, तप्त श्वास का, एक और युग बीत...
जनवरी से लेकर दिसंबर तक के रोमांटिक प्यार की काब्य गाथा-दिसंबर बनके हमारे प्यार की ऐनवर्सरी आई थी
0

जनवरी से लेकर दिसंबर तक के रोमांटिक प्यार की काब्य गाथा-दिसंबर बनके हमारे प्यार की ऐनवर्सरी आई थी

December 31st, 2016 | by admin
रंगनाथ द्विवेदी। जज कालोनी,मियाँपुर जौनपुर। कभी बन सँवर के दुल्हन सी——— मेरे कमरे मे...
अलविदा 2016 – ऐ ! जाते हुए साल
0

अलविदा 2016 – ऐ ! जाते हुए साल

December 27th, 2016 | by admin
वंदना बाजपेयी ऐ जाते हुए साल तुम्हीं ने सिखाया मुझे की हर साल 31 दिसंबर की रात को ” happy new year ”...
अटल बिहारी बाजपेयी के जन्मदिन पर विशेष – एक बरस बीत गया
0

अटल बिहारी बाजपेयी के जन्मदिन पर विशेष – एक बरस बीत गया

December 25th, 2016 | by admin
एक बरस बीत गया झुलासाता जेठ मास शरद चांदनी उदास सिसकी भरते सावन का अंतर्घट रीत गया एक...
Translate »