breaking news

कवितायें

आओ, नूतन वर्ष मना लें- हरिवंश राय बच्चन
0

आओ, नूतन वर्ष मना लें- हरिवंश राय बच्चन

January 1st, 2017 | by admin
आओ, नूतन वर्ष मना लें! गृह-विहीन बन वन-प्रयास का तप्त आँसुओं, तप्त श्वास का, एक और युग बीत...
जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना- गोपाल दास नीरज
0

जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना- गोपाल दास नीरज

October 29th, 2016 | by admin
जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए। नई ज्योति के धर नए पंख झिलमिल,...
अक़ायद वहम है मज़हब ख़याल-ए-ख़ाम है साक़ी- साहिर लुधयानवी
0

अक़ायद वहम है मज़हब ख़याल-ए-ख़ाम है साक़ी- साहिर लुधयानवी

October 25th, 2016 | by admin
पुन्य तिथि पर विशेष ____________________- अक़ायद वहम है मज़हब ख़याल-ए-ख़ाम है साक़ी अज़ल से...
परिंदे – निर्मल वर्मा
0

परिंदे – निर्मल वर्मा

October 25th, 2016 | by admin
सुप्रसिद्ध साहित्यकार निर्मल वर्मा की पुन्य तिथि पर ( 25 अक्टूबर ) पर हम उनको स्मृति नमन...
ऐ मेरे दोस्त! मेरे अजनबी!- अमृता प्रीतम
0

ऐ मेरे दोस्त! मेरे अजनबी!- अमृता प्रीतम

August 31st, 2016 | by admin
ऐ मेरे दोस्त! मेरे अजनबी! एक बार अचानक – तू आया वक़्त बिल्कुल हैरान मेरे कमरे में खड़ा रह...
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता- बशीर बद्र
0

यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता- बशीर बद्र

August 29th, 2016 | by admin
कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता जी बहुत चाहता है सच बोलें क्या करें...
दो नाक  वाले लोग – हरिशंकर परसाई
0

दो नाक वाले लोग – हरिशंकर परसाई

August 22nd, 2016 | by admin
मैं उन्हें समझा रहा था कि लड़की की शादी में टीमटाम में व्यर्थ खर्च मत करो। पर वे बुजुर्ग...
हींगवाला – सुभद्रा कुमारी चौहान
0

हींगवाला – सुभद्रा कुमारी चौहान

August 16th, 2016 | by admin
लगभग 35 साल का एक खान आंगन में आकर रुक गया । हमेशा की तरह उसकी आवाज सुनाई दी – ”अम्मा… हींग...
होली – सुभद्रा कुमारी चौहान
0

होली – सुभद्रा कुमारी चौहान

August 16th, 2016 | by admin
कल होली है।” “होगी।” “क्या तुम न मनाओगी?” “नहीं।” ”नहीं?” ”न ।” ”’क्यों? ” ”क्या बताऊं...
मेरा नया बचपन – सुभद्रा कुमारी चौहान
0

मेरा नया बचपन – सुभद्रा कुमारी चौहान

August 16th, 2016 | by admin
बार-बार आती है मुझको मधुर याद बचपन तेरी। गया ले गया तू जीवन की सबसे मस्त खुशी मेरी॥...
Translate »